Hindi and Pedagogy MCQ Question with Answer

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on pinterest
Pinterest
Share on reddit
Reddit
Share on tumblr
Tumblr
Hindi and Pedagogy MCQ Question with Answer
Quiz-1Quiz-2Quiz-3

निर्देश (प्र. सं. 41-45) निम्नलिखित काव्यांश के आधार पर प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

थूके, मुझ पर त्रैलोक्य भले ही थूके,

जो कोई जो कह सके, कहे, क्यों चूके?

छीने न मातृपद किंतु भरत का मुझसे

रे राम दुहाई करू और क्या तुझसे?

कहते आते थे यही अभी नरदेही,

माता न कुमाता, पुत्र कुपुत्र भले ही।

अब कहें सभी यह हाय! विरुद्ध विधाता,

‘ है पुत्र पुत्र ही, रहे माता कुमाता।’

बस मैंने इसका बाह्य-मात्र की देखा,

दृढ़ हृदय न देखा मृदुल गात्र ही देखा।

Q41. कैकेयी की किस मानसिक दशा की अभिव्यक्ति उपरोक्तकाव्यांश में हो रही है?

(a) चिंता

(b) पश्चाताप और ग्लानि

(c) पुत्र प्रेम

(d) क्रोध

Answer: (b) पश्चाताप और ग्लानि

Q42. उपरोक्त काव्यांश का मूलभाव है।

(a) छीने न मातृपद किन्तु भरत का मुझसे

(b) कहते आते थे यही अभी नरदेही

(c) जो कोई जो कह सके

(d) बस मैंने इसका बाह्य-मात्र ही देखा

Answer: (d) बस मैंने इसका बाह्य-मात्र ही देखा

Q43. बस मैंने इसका बाह्य-मात्र ही देखा’ कथन का भाव है।

(a) कैकेयी ने भरत को समझा नहीं ।

(b) वह भरत की शक्ति को पहचान गई

(c) भरत के मन को न समझा पाई

(d) वह माता का कर्तव्य न कर सकी

Answer: (c) भरत के मन को न समझा पाई

Q44. इस काव्यांश में मूल विचार है।

(a) है पुत्र पुत्र ही, रहे माता कुमाता

(b) अब कहें सभी यह हाय! विरुद्ध विधाता,

(c) हे! राम भरत को क्षमा करिए

(d) हे राम दुहाई करू और क्या तुझसे?

Answer: (a) है पुत्र पुत्र ही, रहे माता कुमाता

Q45. इस काव्यांश का शिल्प सौन्दर्य है।

(a) बाह्य-मात्र’, ‘मृदुल गात्र’, जैसे तत्सम शब्दों के कारण

(b) सरल और सहज भावावेगमयी भाषा के कारण।

(c) ‘माता न कुमाता, पुत्र कुपुत्र’ उक्ति के कारण

(d) ‘थूके, मुझ पर त्रैलोक्य भले ही थूके’ उक्ति के कारण

Answer: (b) सरल और सहज भावावेगमयी भाषा के कारण।

Q46. निगमन विधि

(a) मनोवैज्ञानिक विधि है

(b) अ-मनोवैज्ञानिक विधि है।

(c) कुछ कह नहीं सकते

(d) इनमें से कोई नहीं

Answer: (b) अ-मनोवैज्ञानिक विधि है।

Explanation: निगमन विधि एक अ-मनोवैज्ञानिक विधि है, क्योंकि इसमें चिन्तन-मनन का काई स्थान नहीं होता और सीधे-सीधे विषय का नियम बताए शिक्षण प्रारम्भ कर दिया जाता है।

Q47. “पाठोपरान्त मूल्यांकन” किसे कहते हैं?

(a) पाठ पढ़ाने से पूर्व का

(b) पाठ पढ़ाते समय का

(c) पाठ पढ़ाने के बाद का

(d) घर पर का

Answer: (c) पाठ पढ़ाने के बाद का

Q48. प्रारम्भिक अवस्था में बालक भाषा सीखता है।

(a) निरीक्षण, अनुकरण, श्रवण द्वारा

(b) निरीक्षण, श्रवण, अनुकरण द्वारा

(c) श्रवण, निरीक्षण, अनुकरण द्वारा

(d) श्रवण, अनुकरण, निरीक्षण द्वारा

Answer: (d) श्रवण, अनुकरण, निरीक्षण द्वारा

Q49. वाक्य विश्लेषण के शिक्षण हेतु उपयुक्त विधि है।

(a) आगमन विधि

(b) निगमन विधि

(c) गीत-अभिनय विधि

(d) ये विधि

Answer: (a) आगमन विधि

Explanation: यदि वाक्यों का विश्लेषण करना हो, तो उसके लिए आगमन विधि उपयुक्त होती है। आगमन विधि में छात्र उदाहरणों की सहायता से सामान्य सिद्धान्त निकालते हैं।

Q50. वाक्य की पूर्णता के लिए आवश्यक है।

(a) योग्यता

(b) आकांक्षा

(c) आसक्ति

(d) ये सभी

Answer: (d) ये सभी

Pages ( 5 of 6 ): « Previous1 ... 4 5 6Next »

Read Important Article

Leave a Comment

error: Content is protected !!